श्री अरविन्द की ‘सावित्री’ को पढ़ना ही योग है

 

श्री अरविन्द रचित महाकाव्य  सावित्री  में सनातन अध्यात्म का सार हैं l इसके पढने मात्र से साधना हो जाती  हैं अथार्त हमारे अनसुलझे  आघात अन्दर ही अन्दर सुलझते जाते  है l जीवन  में व्याप्त अँध प्रव्रर्तियो  का ज्ञान होने से  मुक्त होना शुरू हो जाता हैं l अहम ,काम,लोभ  एवं छल  विसर्जित होते हैं, जडत्व  टूटता जाता है l स्वत: ही प्रार्थना व समर्पण उदित होने लगते है हैl  पाठक के भीतर की ग्रन्थिया खुलती जाती हैl  इससे  चक्रों का शोधन  होता है  जिससे कुंडलिनी जागने लगती है l अपने भीतर का मार्ग खुलता जाता है l

 

जीवन में दिव्यता का प्रवेश धीरे धीरे होना प्रारम्भ होता है l रचना के भावलोक में पहुचने से पाठक का मन प्रकाशित  होता जाता हैं l  केन्द्रित होने पर आत्म ज्ञान के पट खुलने लगते है,यही तो सच्चा  योग है l

परवरिश सिखाने वाली अनूठी एवं प्रेक्टिकल किताब : संतान-निर्माण

 संतान-निर्माण के लिए बाल-मनोविज्ञान और प्रत्येक बच्चे के अनूठेपन को ध्यान रखकर बच्चे को पालना होगा।लेखक ने  नये इंसान को निर्मित करने के लिए कुछ चीजें बुनियादी रूप से बदलने की आवश्यकता बताई है l  बच्चे परिवार से आचरण सीखते हैं, वे कहने से अधिक हमारे व्यवहार से सीखते हैंl वे हमारी वृत्तियां, काम करने के तरीके, सोचने के ढंग अनुभव आदि से सीखते है l वे हमसे सफलता और आनंद के उच्च शिखर पर पहुँचने या नाकामयाबी का नज़रिया भी ले सकते हैं। भविष्य की चुनौतियाँ हमसे अलग तरह की होंगी, हमें उनकी परवरिश करने की कला सीखनी होगी।लेखक एक बच्चे का पिता है  एवं गर्भाधान आदि संस्कारो का स्वयं अनुभवी है l
यह पुस्तक परवरिश के साथ ही स्व-प्रबंधन के सूत्र समेटे है, यह बच्चे को समझने उसकी प्रतिभा को पहचानने, जड़ों से जोड़ने तथा उसकी असीम संभावनाओं को पंख देने में मदद करेगी, विषय क्रम में संतान-जन्म, स्वास्थ्य, मन, अन्तर्सम्बन्ध, शिक्षा, संवाद, आचरण, प्रतिभा-पहचान, नवाचार, कॅरियर-चयन आदि बहुत कुछ है। पुस्तक में अभिभावकों के सामने आने वाली कठिनाइयों के समाधान हैं, यह परवरिश पर अनूठी पुस्तक है।

संतान-निर्माण   (परवरिश के प्रभावी सूत्र) 

लेखक – धीरज कुमार अरोड़ा

पृष्ठ -135,                         कीमत – 80/- मात्र

प्रकाशक – रिद्धी पब्लिकेशन,जयपुर, उदयपुर

२४ घंटे ॐ साधना :अंतर्यात्रा की दिशा में एक कदम

गृहप्रवेश के पूर्व बेंगलोर में २४ घंटे अखंड जप अक्षय तृतीया पर करने का अवसर मिलाl पहली बार इस तरह की साधना की l एक मित्र ने वहाँ पर नकारात्मकता शक्ति  होने की बात बताई थी lप्रारम्भ में बहुत उत्साह था लेकिन भीतर डर भी था की पूरी कैसे करेंगे l घी का दीपक कर मीना और मैंने निरन्तर २४ घंटा तक ॐ का जप किया l

चारो तरफ सकारात्मक बढ़ी l घर में डर समाप्त हुआ l रात्रि में सघन नीद आने लगी l इसके जप  से शारीरिक ,मानसिक व आध्यात्मिक शांति महसूस हुई lइससे चेतना में नई ऊर्जा  व सक्रियता का बोध  हुआ l  एकाग्रता बढ़ी l थकान,बैचेनी ,निराशा  एवं आलस्य घटा lबहुत सुखद परिणाम आये

 

गुरु की प्राप्ति कैसे हो ?

एक गुरु बहती हुई सूक्ष्म शक्तियों का केंद्र होता हैं l किसी सत्संग में जाए ,जहा पर आपको शांति मिले व अच्छा लगेl किसी आध्यात्मिक मिलन या योग केंद्र में जाएं l धैर्य पूर्वक खोजते रहे l गुरु की खोज एक प्रतीक्षा है।
कभी भी गुरु के प्रति बहुत तार्किक न हों क्योकि बहुतसी ऐसी चीजें है जो आप समझ नहीं सकते और गुरु आपको समय से पहले समझा नहीं सकता ,अतः केवल विश्वास पर रहें ,अति तर्क आपमें अश्रद्धा उत्पन्न कर सकता है ,जबकि आप गलत भी हो सकते हैं ,क्योकि ऊर्जा संरचना और प्रकृति का विज्ञान गुरु ही समझ
सकता हैl
ओशो ने तो बताया है कि गुरु को शिष्यक नहीं खोज सकता। यह असंभव है । इसका कोई उपाय नहीं है। यह तो बात ही व्यबर्थ है। हमेशा गुरु शिष्यत को खोजता हे। तो जब भी आप शिष्यक होने के लिए तैयार हो जाते है गुरू प्रकट हो जाता है। आप प्यास व पात्रता पैदा करे वह आपको खोज लेगा। फिर आप बच नहीं सकते। वह आपको खोज लेगा। फिर आपके बचने का कोई उपाय नहीं है। इसलिए बड़ी चीज गुरु को खोजना नहीं है, बड़ी चीज शिष्ये बनने की तैयारी है। आप गड्ढे बन जाएं; पानी बरसेगा और झील भर जायेगी।

गुरु एक मार्गदर्शक ज्योति होता है lयह एक तत्व के रूप में भी है एवं यह एक व्यक्ति के रूप में भी हो सकता है l इसको खोजना कठिन है चुकि कोई हमारा शोषण भी कर सकता हैं l

योग का पूरा लाभ उठाने षट्कर्म अति आवश्यक

हठयोग के अनुसार योग का प्रथम चरण षट्कर्म – नेति ,धौति,बस्ति,नौली,कपाल भाति एवं त्राटक हैlआसन प्राणायाम करने का पूरा लाभ शारीरिक व मानसिक शुद्धी पर ही मिलता हैl
नेति द्वारा नासिका को,धौति द्वारा पाचन तंत्र को ,बस्ति द्वारा उत्सर्जन तंत्र को ,कपाल भाति द्वारा मस्तिष्क को शुद्ध एवं त्राटक द्वारा मन की चंचलता को कम किया जाता हैl

काम, क्रोध, लोभ, द्वेष इत्यादि मानसिक मलिनताएँ शरीर के अंदर विषैले पदार्थ उत्पन्न करते हैं। अशुद्ध भावनाओं के कारण प्राणों में असंतुलन हो जाता है। शरीर के विभिन्न अवयव इससे प्रभावित हो जाते हैं। तंत्रिकातंत्र दुर्बल हो जाता है। इसलिए शरीर को स्वस्थर और शक्तिशाली बनाने के लिए मानसिक मलिनताओं को दूर करना आवश्यक है।

भय से हृदय रोग होता है। दु:ख से तंत्रिकातंत्र असंतुलित हो जाता है। निराशा से दुर्बलता होती है। लोभ प्राणों को असंतुलित करता है जिससे अनेक प्रकार के शारीरिक रोग उत्पन्न होते हैं। अहंकार जीवन की पूर्णता का आनंद नहीं लेने देता। इससे पाचनतंत्र तथा किडनी संबंधी रोग होते हैं। अधिकांश बीमारियाँ रोगी की मानसिक विकृतियों के ही कारण हुआ करती हैं।

इसी प्रकार ध्यान से संपूर्ण शरीर में प्राणों का प्रवाह निर्बाध गति से संचारित होता है।
शारीरिक ,मानसिक व भावनात्मक शुद्धी षट्कर्म से होती है जो की आसन प्राणायाम का पूरा लाभ लेने के लिए जरूरी हैl तभी कहा जाता है की हठयोग के बिना राजयोग को प्राप्त नहीं किया जा सकता हैl