श्री अरविन्द की ‘सावित्री’ को पढ़ना ही योग है

 

श्री अरविन्द रचित महाकाव्य  सावित्री  में सनातन अध्यात्म का सार हैं l इसके पढने मात्र से साधना हो जाती  हैं अथार्त हमारे अनसुलझे  आघात अन्दर ही अन्दर सुलझते जाते  है l जीवन  में व्याप्त अँध प्रव्रर्तियो  का ज्ञान होने से  मुक्त होना शुरू हो जाता हैं l अहम ,काम,लोभ  एवं छल  विसर्जित होते हैं, जडत्व  टूटता जाता है l स्वत: ही प्रार्थना व समर्पण उदित होने लगते है हैl  पाठक के भीतर की ग्रन्थिया खुलती जाती हैl  इससे  चक्रों का शोधन  होता है  जिससे कुंडलिनी जागने लगती है l अपने भीतर का मार्ग खुलता जाता है l

 

जीवन में दिव्यता का प्रवेश धीरे धीरे होना प्रारम्भ होता है l रचना के भावलोक में पहुचने से पाठक का मन प्रकाशित  होता जाता हैं l  केन्द्रित होने पर आत्म ज्ञान के पट खुलने लगते है,यही तो सच्चा  योग है l

परवरिश सिखाने वाली अनूठी एवं प्रेक्टिकल किताब : संतान-निर्माण

 संतान-निर्माण के लिए बाल-मनोविज्ञान और प्रत्येक बच्चे के अनूठेपन को ध्यान रखकर बच्चे को पालना होगा।लेखक ने  नये इंसान को निर्मित करने के लिए कुछ चीजें बुनियादी रूप से बदलने की आवश्यकता बताई है l  बच्चे परिवार से आचरण सीखते हैं, वे कहने से अधिक हमारे व्यवहार से सीखते हैंl वे हमारी वृत्तियां, काम करने के तरीके, सोचने के ढंग अनुभव आदि से सीखते है l वे हमसे सफलता और आनंद के उच्च शिखर पर पहुँचने या नाकामयाबी का नज़रिया भी ले सकते हैं। भविष्य की चुनौतियाँ हमसे अलग तरह की होंगी, हमें उनकी परवरिश करने की कला सीखनी होगी।लेखक एक बच्चे का पिता है  एवं गर्भाधान आदि संस्कारो का स्वयं अनुभवी है l
यह पुस्तक परवरिश के साथ ही स्व-प्रबंधन के सूत्र समेटे है, यह बच्चे को समझने उसकी प्रतिभा को पहचानने, जड़ों से जोड़ने तथा उसकी असीम संभावनाओं को पंख देने में मदद करेगी, विषय क्रम में संतान-जन्म, स्वास्थ्य, मन, अन्तर्सम्बन्ध, शिक्षा, संवाद, आचरण, प्रतिभा-पहचान, नवाचार, कॅरियर-चयन आदि बहुत कुछ है। पुस्तक में अभिभावकों के सामने आने वाली कठिनाइयों के समाधान हैं, यह परवरिश पर अनूठी पुस्तक है।

संतान-निर्माण   (परवरिश के प्रभावी सूत्र) 

लेखक – धीरज कुमार अरोड़ा

पृष्ठ -135,                         कीमत – 80/- मात्र

प्रकाशक – रिद्धी पब्लिकेशन,जयपुर, उदयपुर

पटकथा लेखन एक कला :उसमें पारंगत कैसे हो ?

मनोहर श्याम जोषी की प्रसिद्ध कृति: पटकथा लेखन एक परिचय


यह हिन्दी में पटकथा लेखन पर सर्वश्रेष्ठ कृति है। इसमें पटकथा के सभी अंगोे का विस्तृत उदारहण सहित वर्णन है। पटकथा लिखने से पूर्व इसको पढ़ना बहुत जरुरी है। इसमें फिल्म की पटकथा एवं टीवी धारावाहिको की पटकथा पर विस्तृत जानकारी उपलब्ध है। फिल्म मेकिंग, फिल्म सम्पादन,संवाद लेखन, कैमरा टेकनिक एवं षाॅट की जानकारी है। जो फिल्म लेखन के लिए जरुरी है। इसमें 23 पाठ है।
आईडिया, प्रिमाईस, वन मिनट सिनोप्सीस, टू मिनट मूवी, ट्रीटमेन्ट,(आम्बियांस और हाइलाइट्स), स्टेप आउट लाईन,, फिल्म के तीन अंग-सेटअप, टकराहट,चरमोत्कर्ष और समाधान, प्लाॅट पाॅइंट, षूटिंग स्क्रीप्ट ,एक्शन पाॅइंट को विस्तार से समझाया गया है।
मनोहर ष्याम जोषी हिन्दी के जाने माने रचनाकार है। वैसे भारत में टीवी धारावाहिकों के आप जन्मदाता है। कुरु-कुरु स्वाहा, कक्काजी कहिन आदि प्रसिद्ध उपन्यास लिखे है। हम लोग एवं बुनियाद जिसे प्रसिद्ध धारावाहिक आपने ही लिखे थे। है राम, अप्पू राजा, पापा कहते है आदि फिल्मों की पटकथाएं आपने लिखी है।
प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन , नई देल्ही
मूल्य : रू 75

स्वस्थ रहने हेतु जम कर ताली बजाए

ताली दुनिया का सर्वोत्तम एवं सरल सहज योग है l यदि प्रतिदिन यदि नियमित रूप से ताली बजाई जाये तो कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को सुलझाया जा सकता है। ताली बजाने से पहले हमें सरसों या नारियल का तेल अपने हाथों पर लगा लेना चाहिए।

%e0%a4%a4%e0%a4%be%e0%a4%b2%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%9c%e0%a4%be%e0%a4%8f

डॉ. डोगरा के मुताबिक, इस थेरेपी के लिए सुबह का समय सर्वोत्तम है। सुबह-सुबह 20-30 मिनट तक ताली बजाने से आप स्वस्थ और सक्रिय रहेंगे। फिर किसी हठयोग या आसनों की जरूरत नहीं रहेगी। यदि दिन भर  में लगभग 1500 बार ताली बजाये  तो हम बिल्कुल स्वस्थ रहते हैं।

ताली बजाना मात्र एक  व्यायाम नहीं हैl ताली बजाने से हमारे दोनों हाथों के बिंदु दब जाते हैं जिसके कारण हमारे शरीर को बहुत ही लाभ पहुंचता है।एक्युप्रेशर विज्ञान के अनुसार हाथ की हथेलियों में शरीर के समस्त अंगों के संस्थान के बिंदू होते हैं। जब ताली बजाई जाती है तब इन बिन्दुओं पर बार-बार दबाब यानिप्रेशर पड़ता है जिससे शरीर की समस्त आन्तरिक संस्थान में उर्जा जाती है और सभी अंग अपना काम सुचारू रूप में करने लगते हैं।

ताली बजाने से शरीर के विकार खत्म होते हैं और वात, कफ और पित्त का संतुलन ठीक तरह से बना रहता है। मानसिक तनाव, चिंता और कब्ज के रोग भी ताली बजाने से खत्म होते हैं।लगातार ताली बाजाने से आपका शरीर बीमारियों से लड़ने में सक्षम होता है। जिससे कोई भी बीमारी आसानी से शरीर को नहीं लगती है।ताली बजाने से शरीर स्वस्थ और निरोग रहता है।

जब भी हम लगातार ताली बजाते हैं तो हमारे ब्लड में कोलेस्ट्रॉल कम होता है जिससे हमें हार्ट का खतरा कम रहता है। इस प्रकार की ताली बजाने से कब्ज, एसिडिटी, मूत्र, संक्रमण, खून की कमी व श्वांस लेने में तकलीफ जैसे रोगों में लाभ पहुंचता है।

जब हम लगातार ताली बजाते हैं, तो हमारी ऑक्सीजन का फ्लो सही तरीके से काम करता है, हमारे फेफड़ों में ऑक्सीजन सही तरीके से पहुंचती है, जिसके कारण हम हेल्दी रहते हैं। इसके अलावा हृदय रोग, मधुमेह, अस्थमा, गठिया आदि बीमारियों से हमें राहत मिलती हैl शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और बीमारियों से बचने के लिए भी क्लैपिंग करनी चाहिए।कहा तो यहां तक जाता है कि कीर्तन के समय हाथ ऊपर उठा कर ताली बजाने  में काफी शक्ति होती है। इससे हमारे हाथों की रेखाएं तक बदल जाती हैं।

ताली बजाने से बच्चों का दिमाग तेज़ होता है।  जब बच्चे लगातार ताली बजाते हैं तो उनकी लिखावट साफ हो जाती है।

Related posts:

Seven Amazing Benefits of Clapping

रोग दूर करने शरीर की आन्तरिक फार्मेसी को जगाएँ

जीवन एक रहस्य हैः इन्द्रियों द्वारा उसे नहीं जान सकते

मेरी पुस्तक ‘तनाव छोड़ो ,सफलता पाओ’ से तनावरोधी कैप्सूल

 

 

देह गगन के सात समंदर : सैन्नी एवं स्नोवा का आत्म खोजी उपन्यास:

देह गगन के सात समंदर वैसे एक कथ्य व शैली के हिसाब से उपन्यास है लेकिन वास्तव में यह एक आधुनिक उपनिषद की तरह है ।यह उपन्यास नहीं बल्कि जीवन शास्त्र है । इसमें स्वयं की खोज एवं स्वयं को पाने का वृतान्त है ।

सैन्नी एवं स्नोवा
सैन्नी एवं स्नोवा

यह एक रहस्यदर्शी, दार्शनिक एवं अन्र्तयात्रा वृतान्त है जो स्वयं की खोज में लगे हुए है । नायक एवं उसकी टोली देह के पार की अन्वेशक है । यह आत्मखोज परक उपन्यास है ।
प्रेम एवं मैत्री, अस्तित्व एवं सौन्दर्य, पुरूष और स्त्री एवं धर्म एवं अध्यात्म पर इसमे गहन चर्चा की हुई है । शब्द के पार जाने की कला इसमे बतायी हुई है । कला एवं कलाकार, कविता एवं साहित्य, मन एवं उसके पार पर बहुत विस्तृत चर्चा है ।

स्त्री व पुरूष सम्बन्धों में गहराई व आत्मीयता बढ़ने से जीवन का रहस्य समझा जा सकता है । पारम्परिक ढर्रे पर जीने से बेहोशी बढ़ती है । स्त्री-पुरूष सम्बन्धों में अपूर्णता जीवन में अपूर्णता का कारण है । स्वयं को जानने की दिशा में यह एक मार्ग है । अपने भीतर के विपरित लिंग से मिलने में बाहर का साथी मात्र सहायक है । असल तो अपनी ही देह के विपरित लिंग से मिलना है। दूसरों के बहाने हम अपने ही ठिकाने तलाश रहे हैं । सजगता व्यक्ति को नये आयाम देती है ।

नर-नारी के स्वाभाविक देहयोग और देहभोग तक से डरते रहेगें, जिसके बिना हम न स्वयं को जान सकते है, न ही दूसरे को । दमन व भय ने नारी को अधुरा बना दिया है । वह समर्पण व प्रेम से वंचित होने से खण्डित है ।
आज देह लोलुपता के विकास की जगह सहभागी चेतना का विकास आवश्यक है।आत्मा स्थिर या तैयार नहीं होती है । यह एक घटना है, संज्ञा नही है । इसे रचना पड़ता है । इसका निर्माण दृष्टा होने पर होता है ।

इसके लेखक मनाली के रहने वाले सैन्नी एक यायावर है जो हिमालय में घुमते हुए अपनी खोज में व्यस्त है। परम्परागत व संगठित धर्मों के विरूद्ध है। सच्चे अध्यात्म के राही है।