तनाव मिटाने व स्वस्थ रहने मेग्निसियम स्नान करें

मेग्निसियम एक महत्वपूर्ण खनिज है जो की हमारे शरीर में होने वाली  तीन सौ  क्रियाओ   में जरूरी है l यह हमें शाकाहारी भोजन से आवश्यक मात्र जितना नहीं मिलता है l इसके अभाव में हम थक जाते है व शरीर बीमार पड जाता है l इसका अवशोषण त्वचा के द्वारा  अच्छा होता है इसलिए मेग्निसिम स्नान स्वस्थ होने का सरल तरीका हैlwoman-relaxing-in-bathtub_23-2147835569

एक कप मेग्निसियम क्लोराइड या एप्सोम साल्ट (मेग्निसियम सल्फेट ) टब में गुनगुने पानी में गोल कर  बीस से तिस मिनट स्नान करें l  पहले चार दिन रोज ले व बाद में सप्ताह में एक बार ले l आपके शरीर में मेग्निसियम के पहुँच जाने से आपका स्वास्थ उतरोत्तर ठीक हो जायेगा l

रिलेटेड पोस्ट्स:

मैग्नीशियम की कमी दूर कर अधिकांश रोगों को भगाए

मैग्नीशियम के अद्भुत स्वास्थ्य लाभ और इसे बढ़ाने के तरीके

 

क्या खुद को दिवाली की राम राम की!

हम अपने को भी तो  प्यार कर सकते है l हमें  अपने  को भी ख्याल में रखना है l अपने को खोकर  कुछ भी पा ले उसका क्या महत्व है ?हम ही अपने को सच्ची ख़ुशी दे सकते है l

अस्तित्व आपके लक्ष्यों को पुरा करने का षड्यन्त्र करे ! दिवाली  एवं नव वर्ष की शुभकामनाएँ !

सम्बन्धीत पोस्ट्स—

विज्ञान के आलोक में दीपावली अभिनन्दनः अर्थ, प्रयोजन एवं सार्थकता

दिवाली की शुभकामनाएं

मेरा नमस्कार: अर्थ, भावार्थ एंव प्रयोजन

स्थाई रूप से पाचन ठीक करने व ऊर्जावान बनने त्रिफला रसायन ले

त्रिफला तीन श्रेष्ठ औषधियों हरड, बहेडा व आंवला के पिसे मिश्रण से बने चूर्ण को कहते है।जो की मानव-जाति को हमारी प्रकृति का एक अनमोल उपहार हैl त्रिफला सर्व रोगनाशक रोग प्रतिरोधक और आरोग्य प्रदान करने वाली  महा औषधि है। त्रिफला से कायाकल्प होता है, त्रिफला एक श्रेष्ठ रसायन, एन्टिबायोटिक व ऐन्टिसेप्टिक है इसे आयुर्वेद का पेन्सिलिन भी कहा जाता है।सुबह के वक्त त्रिफला लेना पोषक होता है जबकि शाम को यह रेचक (पेट साफ़ करने वाला) होता है। त्रिफला का प्रयोग शरीर में वात पित्त और कफ़ का संतुलन बनाए रखता है।

इस त्रिफला में एक भाग हरड,दो भाग बहेडा व तिन भाग आवला लेते है l  प्रातः खाली पेट एक चम्मच उक्त चूर्ण   निम्नानुसार समय  पर ले व उसके बाद एक घंटे तक कुछ और न ले l

1.शिशिर ऋतू में ( 14 जनवरी से 13 मार्च) 5 ग्राम त्रिफला को आठवां भाग छोटी पीपल का चूर्ण मिलाकर सेवन करें।
2.बसंत ऋतू में (14 मार्च से 13 मई) 5 ग्राम त्रिफला को बराबर का शहद मिलाकर सेवन करें।
3.ग्रीष्म ऋतू में (14 मई से 13 जुलाई ) 5 ग्राम त्रिफला को चोथा भाग गुड़ मिलाकर सेवन करें।
4.वर्षा ऋतू में (14 जुलाई से 13 सितम्बर) 5 ग्राम त्रिफला को छठा भाग सैंधा नमक मिलाकर सेवन करें।
5.शरद ऋतू में(14 सितम्बर से 13 नवम्बर) 5 ग्राम त्रिफला को चोथा भाग देशी खांड/शक्कर मिलाकर सेवन करें।
6.हेमंत ऋतू में (14 नवम्बर से 13 जनवरी) 5 ग्राम त्रिफला को छठा भाग सौंठ का चूर्ण मिलाकर सेवन करें।

आयुर्वेद में  बारह वर्ष तक लेने का विधान है इससे पूरा  शरीर नया बन जाता है l लेकिन   वर्ष भर तक लेने से पाचन  सम्बन्धी सारी तकलीफे दूर होती है l

इस सम्बन्धी कोई प्रश्न होतो यहाँ पूछ सकते है l

Related Posts:

त्रिफला एक अमृत रसायन : कायाकल्प करें व गम्भीर रोग दूर करें

श्री अरविन्द की ‘सावित्री’ को पढ़ना ही योग है

 

श्री अरविन्द रचित महाकाव्य  सावित्री  में सनातन अध्यात्म का सार हैं l इसके पढने मात्र से साधना हो जाती  हैं अथार्त हमारे अनसुलझे  आघात अन्दर ही अन्दर सुलझते जाते  है l जीवन  में व्याप्त अँध प्रव्रर्तियो  का ज्ञान होने से  मुक्त होना शुरू हो जाता हैं l अहम ,काम,लोभ  एवं छल  विसर्जित होते हैं, जडत्व  टूटता जाता है l स्वत: ही प्रार्थना व समर्पण उदित होने लगते है हैl  पाठक के भीतर की ग्रन्थिया खुलती जाती हैl  इससे  चक्रों का शोधन  होता है  जिससे कुंडलिनी जागने लगती है l अपने भीतर का मार्ग खुलता जाता है l

 

जीवन में दिव्यता का प्रवेश धीरे धीरे होना प्रारम्भ होता है l रचना के भावलोक में पहुचने से पाठक का मन प्रकाशित  होता जाता हैं l  केन्द्रित होने पर आत्म ज्ञान के पट खुलने लगते है,यही तो सच्चा  योग है l

स्वस्थ रहने करे सोलह आसन

शरीर के  सभी  जोड़ो  को नम्य व  स्वस्थ रखने  प्रतिदिन निम्न सोलह आसन काफी हैl इन आसनों को क्रमशः व धीरे धीरे करे l करते वक्त शरीर को झटका न दे  न ही मन को भटकने दे l

1सचल गति चक्रासन: इसमें पद्मासन में बैठ कर कमर को तिन बार -तिन बार दोनो दिशाओ में घुमाना है l

२ अर्ध शलभासन : इसमें पीठ के बल लेटकर एक पाव ऊँचा करना है l

३ शलभासनShalabhasana-Locust-pose

४ भुजंगासन

bhujngasn

५ धुनुरासन

dhnurasn

6 मार्जरी आसन

marjri aasn

७ नौकासन

naukasn

८ अर्ध पवन मुक्तासन

pvn muktasn

९ पवन मुक्तासन: यह दोनों पावो के साथ करना हैl

१० सर्वांगासन

sarvangasana-

११सेतु बन्ध आसन

setubandhasn

१२ नटराज आसन : इसमें पीठ के बल लेटकर  करना है ताकि रीढ़ की नम्यता बनी रहे l

१३ पश्चिमोत्तासन

pschimottasn

14 अर्ध मत्सेयान्द्र आसन

ardh maseyndrasn

15 पर्वतासन

Parvatasana.

१६ योग मुद्रा: पद्मासन में बैठ कर दोनों हाथ सिर के उपर कर धीरे धीरे निचे लेन है l